Jyadatar insaan Goal Setting kyu nahi kar pate - Know Reasons

कुछ लोग अपने जीवन मे लक्ष्य का निर्धारण करते है तो कुछ लोग नहीं भी , लेकिन बहुत सारी रिसर्च से ये सामने आया है जिन लोगों ने लक्ष्य बनाया उनका जीवन खुशहाल है और वो कामयाब भी हुए । दूसरी तरफ जिनहोने कोई Goal नहीं बनाया वो आम ज़िंदगी ही जी रहा होता है । उसके पास ज्यादा कुछ नहीं होता जिससे खुशहाल जीवन का आनंद लिया जा सके।





लक्ष्य ना बनाने की मुख्य कारण


ऐसा क्यूँ होता है , सभी चाहते है अच्छी ज़िंदगी बिताना तो हर कोई लक्ष्य क्यू नहीं बनाता , इसकी बहोत सारे वजह है , मै इस पोस्ट मे ऐसे ही कुछ वजह के बारे मे बताने जा रहा हूँ जिससे अधिक लोग अपना लक्ष्य बना ही नहीं पाते । अगर आप भी उनमे से एक हो और चाहते हो जीवन मे कुछ पाना तो पूरी पोस्ट अच्छे से पढ़ो और अमल भी करो।


1. निराशावादी नजरिया :- निराशावादी नजरिया अहम भूमिका निभाती है गोल सेटिंग ना करने मे , लोग लक्ष्य को बनाने से पहले उसमे आने वाली समस्या को ज्यादा महत्व देते है । वे हमेशा समस्या से डरते है और बचना चाहते है समस्या का सामना करने से इसलिए ऐसे लोग एक आम जीवन ही बिताते है ।  वे लोग हमेशा हालात , माहौल और खुद की कमियों को दोष देते है , जबकि ये गलत है हर कामयाब व्यक्ति को समस्या का सामना करना पड़ा है ।



2. टालमटोल करना :-  मनुष्य को बदलाव की आदत नहीं होती , वे बदलाव विरोधी होते है । टालमटोल का मतलब होता है वो खुद की कम्फर्ट ज़ोन मे ही रहना चाहते है । ऐसे लोग कहते है अगले महीने  गोल सेट करूंगा , फिर कहेंगे अगले सपते करूंगा , फिर कहेंगे कल करूंगा जबकि सच ये है ऐसे लोग कभी तय ही नहीं कर पाते दरअसल उन्हे लाइफ से चाहिए क्या ।



3. लक्ष्य के महत्व को ना समझना :- सपने उनही के साकार होते है जो देखते है ठीक उसी तरह लक्ष्य निर्धारण करने वालो की ही लक्ष्य पूरे होते है और वे सफल भी बनते है । कुछ लोग लक्ष्य बनाने के महत्व को ही नहीं जानते इसलिए वो तय ही नहीं करते है खुद का Goal । जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए गोल सेट करने के बहोत सारे फायदे  है । अगर आप गोल सेट कर लेते है तो आपको पता होता है आगे की प्लानिंग और आप किस दिशा मे जा रहे हो ।



4. गोल सेट करने का तरीका ना जानना :- कुछ लोग चाहते तो है गोल सेट करना पर उन्हे सही जानकारी नहीं होती । उन्हे पता ही नहीं होता इच्छा और लक्ष्य मे फर्क क्या है , यही कारण है जिससे वे एक सटीक गोल तय नहीं कर पाते । ऐसे लोगों के लिए सबसे बेहतर तरीका है Goal Setting Theory की पूरी जानकारी हासिल करे फिर अपना गोल सेट करे ।



5. असफलता का डर :- ज़्यादातर लोग आगे कदम इसलिए नहीं बढ़ाना चाहते क्यूंकी उन्हे डर होता है आगे का रास्ता कठिन है । हम आगे बढ़ेंगे ही नहीं तो मंज़िल तक कैसे पहुँच पाएंगे । ऐसे लोग असफलता के डर से ना आगे बढ़ते है और ना ही लक्ष्य का निर्धारण करते है ।


एक उदाहरण की मदद से इसे अच्छे से समझाने की कोशिश करता हूँ , एक 25 वर्षीय व्यक्ति Singer बनना चाहता है लेकिन उसके अंदर डर है वे स्टेज मे perform नहीं कर पाएगा हजारो लोगों के बीच और वो इसी डर की वजह से कभी कोसिश ही नहीं किया , इस उदाहरण से हमे क्या सीख मिलती है । बिना कोसिस किए हम कुछ भी नहीं पा सकते जबकि कोसिस कर असफल व्यक्ति बेहतर होता है एक बार मे सफल व्यक्ति से ।



Conclusion :-

मैंने इस पोस्ट मे कुछ ऐसी वजह को बताया है जिसकी वजह से लोग अपने लक्ष्य का निर्धारण नहीं कर पाते है । वैसे तो बहोत सारे वजह होते है पर मैंने मुख्य वजह को बताया है । अगर आप इन्हे फॉलो करेंगे तो फायदा जरूर होगा । अगर आपको हमारी  जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने मित्रों के साथ जरूर शेर करे ।